Subscribe Support our Abhiyaan

Interviews-hin61 Videos

चलचित्र अभियान- अभी तक का सफ़र

चलचित्र अभियान का ख़याल 2013 के दंगों के बाद आया था जब हमें यह एहसास हुआ कि कैसे सोशल मीडिया (और मुख्य धारा की मीडिया के कुछ अंश भी) दंगे भड़काने और माहौल ख़राब करने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा था।पश्चिम उत्तर प्रदेश के कई लोगों को एक वैकल्पिक मीडिया की ज़रूरत महसूस हुई […]

कश्यप समाज के साथ दबंगो ने की मारपीट

9 जून 2019 को कांधला कसबे के दुधार गाँव में कुछ गुज्जर दबंगों ने कश्यप समाज के लड़कों को पीटा। पीड़ित के परिवार वालों का कहना है की पुलिस ने इस मामले में अभी तक कोई जांच या गिरफ्तारी नहीं की है क्यूंकि आरोपी गुज्जर समाज से हैं। गाँव के बहुत से लोगों ने कहा […]

मुज़फ़्फ़रनगर दंगे के गवाह पर पुलिस का अत्याचार

12 जून 2019 को बुढ़ाना कसबे में रहने वाले इकराम के घर पुलिस आयी और उनके घर में तोड़फोड़ की, उन्हें और उनके परिवार को मारा और उन्हें गिरफ़्तार करने की कोशिश की। इकराम का कहना है कि पुलिस ने उनपर गोली भी चलायी। इकराम और उनके पिता 2013 के मुज़फ़्फ़रनगर दंगो के गवाह हैं […]

14 साल की दलित मज़दूर लड़की की जलकर हुई मृत्यु

24 मई 2019 को मुज़फ्फरनगर ज़िले के एक ईंट भट्टे में 14 साल की दलित लड़की की जलकर मृत्यु हुई। जहाँ एक तरफ ईंट भट्टा मालिक और आसपास रहने वाले मज़दूरों का कहना है की लड़की की मौत रात में उसके कमरे में आग लगने से हुई, लड़की के परिवार का आरोप है की लड़की […]

‘अब दलितों को घर से बाहर निकाल कर मारेंगे’

मेरठ के लावड़ गाँव में कुछ सवर्णों ने दलित लड़कों को क्रिकेट खेलने से रोकने के लिए उन पर हमला किया। इसके बाद वह इन दलित लड़कों के घर आये और उन्हें मारने की धमकी दी। भाजपा की सरकार बनने के बाद देशभर में दलितों, मुसलमानों और आदिवासिओं पर शोषण और अत्याचार की ऐसी बहुत […]

मोदी के गोद लिए गाँव का सच

2014 लोक सभा चुनाव में वाराणसी से सांसद बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने 4 गाँव गोद लिए थे जिनको उन्होंने आदर्श गाँव बनाने की बात की थी। नागेपुर इन 4 गाँवों में से एक है। चलचित्र अभियान की टीम नागेपुर पहुंची पर वहाँ विकास केवल एक खोखला शब्द नज़र आया। टीम – आर्यन माटा, […]

निष्कासित जवान तेज बहादुर यादव से चुनावी चर्चा

तेज बहादुर यादव ने बी.एस.एफ़ में रहते हुए जब जवानों के खाने की स्थिति दिखाते हुए वायरल वीडियो बनाई तो उन्हें उम्मीद थी कि उन्हें न्याय मिलेगा। लेकिन न्याय की जगह उन्हें बी.एस.एफ़ से निष्कासित कर दिया गया। उसके बाद भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ उन्होंने अपनी इस मुहीम में उन्होंने फ़ैसला किया कि वह नरेंद्र मोदी […]

आज़मगढ़ में दलितों ने कहा नहीं चाहिए मोदी

2 अप्रैल 2018 को देश भर में एस.सी-एस.टी ऐक्ट में तब्दीली के ख़िलाफ़ भारत बंद का ऐलान हुआ। उसके बाद दलित समाज के कई लोगों के साथ पुलिस ने दमन किया। कई लोग जेल गए, जिन में से कई लोग नाबालिग भी थे। चलचित्र अभियान ने आज़मगढ़ ज़िले के भदा गाँव के दलितों से बात […]

आज़मगढ़ को आतंकगढ़ कह कर किसने किया बदनाम?

एक समय था जब आजमगढ़ अपने साहित्य, कला और प्रगतिशील आंदोलनों के लिए जाना जाता था। पर कुछ साल पहले आज़मगढ़ को ‘आतंकगढ़’ कह कर बदनाम किया गया। उसके बाद ज़िले के कई नौजवान, ख़ास कर मुस्लिम नौजवानों को आतंक के इल्ज़ामों में गिरफ़्तार किया गया। चलचित्र अभियान ने ज़िले के रिहाई मंच के कार्यकर्ताओं […]

आज़मगढ़ की दलित महिलाओं ने रचा था इतिहास

2 अप्रैल 2018 एक ऐतिहासिक दिन था। पूरे भारत में इस दिन एस.सी./एस.टी. के सुप्रीम कोर्ट द्वारा कमज़ोर किये जाने के विरोध में दलित समाज के लोग सड़कों पर आये। इसके चलते कुछ जगहों पर हिंसा भी हुई और कुछ दलितों की गिरफ्तारी भी हुई। आजमगढ़ के हरैया गाँव में भी बहुत से दलित युवाओं […]