Subscribe Support our Abhiyaan

Communalism-News Features-hin32 Videos

कैराना के रेड़ी पटरी वाले बेदख़ल क्यों ?

पिछले महीने कैराना नगरपालिका ने शहर के सभी रेड़ी पटरी वालों को उनकी जगह से हटाकरने सराय मोहल्ले नाम के एक नए वेंडिंग ज़ोन में जाने का आदेश दे दिया (25 जून 2019 को नगरपालिका ने सराय मोहल्ले के 28 मुस्लिम परिवारों के घर तोड़ दिए थे | इसपर चलचित्र अभियान की रिपोर्ट देखने के […]

चलचित्र अभियान- अभी तक का सफ़र

चलचित्र अभियान का ख़याल 2013 के दंगों के बाद आया था जब हमें यह एहसास हुआ कि कैसे सोशल मीडिया (और मुख्य धारा की मीडिया के कुछ अंश भी) दंगे भड़काने और माहौल ख़राब करने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा था।पश्चिम उत्तर प्रदेश के कई लोगों को एक वैकल्पिक मीडिया की ज़रूरत महसूस हुई […]

ईयरफ़ोन खरीदने पर हुई मॉब लिंचिंग

26 अगस्त 2019 को कारी उवैश नामक एक नौजवान की पुरानी दिल्ली में एक भीड़ द्वारा पीट पीट कर हत्या की गई।कारी उवैश उत्तर प्रदेश के शामली ज़िले का निवासी था। उसके घरवालों का कहना है कि उसके केस को कमज़ोर किया जा रहा है और पुलिस निष्पक्ष जांच नहीं कर रही है और आरोपियों […]

कैराना में 28 मुस्लिम परिवारों के घर तोड़े गए

25 जून 2019 को कैराना में नगरपालिका ने अतिक्रमण के चलते एक मोहल्ले के 28 मुस्लिम घरों को तोड़ दिया। वहाँ रहने वाले परिवारों के अनुसार वह लोग वहाँ 30 से भी ज़्यादा सालों से रह रहे थे और कुछ लोगों के पास इस बात को साबित करने की रसीद भी थी। फिर भी अधिकारीयों […]

मुज़फ़्फ़रनगर दंगे के गवाह पर पुलिस का अत्याचार

12 जून 2019 को बुढ़ाना कसबे में रहने वाले इकराम के घर पुलिस आयी और उनके घर में तोड़फोड़ की, उन्हें और उनके परिवार को मारा और उन्हें गिरफ़्तार करने की कोशिश की। इकराम का कहना है कि पुलिस ने उनपर गोली भी चलायी। इकराम और उनके पिता 2013 के मुज़फ़्फ़रनगर दंगो के गवाह हैं […]

आज़मगढ़ को आतंकगढ़ कह कर किसने किया बदनाम?

एक समय था जब आजमगढ़ अपने साहित्य, कला और प्रगतिशील आंदोलनों के लिए जाना जाता था। पर कुछ साल पहले आज़मगढ़ को ‘आतंकगढ़’ कह कर बदनाम किया गया। उसके बाद ज़िले के कई नौजवान, ख़ास कर मुस्लिम नौजवानों को आतंक के इल्ज़ामों में गिरफ़्तार किया गया। चलचित्र अभियान ने ज़िले के रिहाई मंच के कार्यकर्ताओं […]

योगी के गढ़ में क़ुरेशी भुखमरी की कगार पर

2017 में उत्तर प्रदेश में आदित्यनाथ योगी की सरकार बनने के बाद, अवैध बूचड़खाने बंद करने के नाम पर, भैस का ग़ोश्त के बूचड़खाने बंद किये गए। नियमों का पालन करने के बावज़ूद भी वैकल्पिक बूचड़खाने खोलने की जगह अभी तक नहीं मिली। इस की वजह से गोरखपुर का मुस्लिम क़ुरेशी समाज, जो पुश्तैनी रूप […]

“40 महीने से नहीं मिला है वेतन”

चलचित्र अभियान की टीम ने गोरखपुर के मदरसा शिक्षकों से बातचीत की। इस बातचीत में शिक्षकों ने बताया कि पिछले 40 महीनों से केंद्र सरकार ने उन्हें उनका वेतन नहीं दिया है और वह राज्य सरकार से मिलने वाले 3000 रुपयों पर निर्भर हैं जिसके चलते उन्हें आर्थिक रूप से बहुत परेशानी हो रही है। […]

कन्हैया ने जगाई बेगुसराई में नयी उम्मीद

बेगुसराई की जनता को कन्हैया के रूप में उम्मीद की नयी किरण दिख रही है जो कि सांसद में जाकर उनके मुद्दों को उठाएगा। चलचित्र अभियान ने इस वीडियो में कन्हैया के प्रचार को कवर किया और लोगों से बात की जो कन्हैया को राजनीती में बदलाव लाने वाली ताकत के रूप में देखते हैं […]

2017 बेगूसराय दंगे में किसने की थी अमन पहल?

2017 में बिहार के बेगूसराय ज़िले के बारो गाँव में हिन्दुओं और मुसलामानों के बीच एक दंगा हुआ था। चलचित्र अभियान के साथ हुई बातचीत में गांववालों का कहना है कि इस दंगे के बाद कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं के इलावा कोई भी उनकी मदद के लिए नहीं आया था और इसलिए वह इस बार […]