Subscribe

स्वास्थ्य की बात 2: कैसे लॉकडाउन में टी बी के मरीजों ने जान गवाई

५५ वर्षीय यामीन २०१३ के मुज़फ्फरनगर दंगे में विस्थापित हुए थे. टी बी के मरीज थे और दिहाड़ी करके अपना जीवन व्यापन करते थे. कोरोना काल के लॉक डाउन में उनकी जान चली गयी. देखिये उनकी कहानी.

 

टीम- मोहम्मद शाक़िब रंगरेज़, सुंदुस इदरीसी, विशाल कुमार

(Visited 1 times, 1 visits today)

You might be interested in

LEAVE YOUR COMMENT

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *