Subscribe Support our Abhiyaan

शामली के मेहनतकश – रिक्शा चालक

शामली में मेहनत कर रहे मज़दूरों की समस्याओं को समझने के लिए, चलचित्र अभियान ने यह शृंखला शुरू करी है। इस भाग में हम बात कर रहे हैं शारीरिक मेहनत से चलने वाली रिक्शा चालकों से। रिक्शा का आधुनिकरण होने के बाद पैरो से चलने वाली रिक्शा मजदुर का रोजगार खत्म हो गया हैं। प्रस्तुत है, ‘शामली के मेहनतकश’, एक चलचित्र अभियान प्रस्तुति।

निर्देशक – राहुल शेरवाल | छायाकार – विशाल कुमार | सम्पादक – अयान कुरेशि | ऑडीओ – मोहम्मद शाक़िब रंगरेज़
सूपरवाइसर – अमूल्य आफले

(Visited 1 times, 1 visits today)

You might be interested in

LEAVE YOUR COMMENT

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *